देख तमासा

लिखो कविता, जीतो ईनाम!

नीचे दिए चित्र और इस लेख के शीर्षक को ध्यान से देखिए और रच डालिए एक छोटी सी कविता। रचना ज्यादा बड़ी न हो तो अच्छा, चार लाईना हो तो उत्तम, हाइकू हो तो क्या कहनें! शीर्षक मुख्यतः भाव के लिए है, पर आप इसे कविता में प्रयोग कर सकते हैं। यदि आपकी रचना निरंतर संपादक मंडल को पसंद आ गई तो आप जीत सकेंगे डॉ अंजली देवधर द्वारा रचित "उत्कृष्ट हाईकू" की एक प्रति। कविता इस पोस्ट पर अपने टिप्पणी (कमेंट) के रूप में ही प्रेषित करें।

 

 

प्रतियोगिता के नियमः

  • रचना मौलिक, अप्रकाशित होनी चाहिए।
  • ईमेल या अन्य किसी माध्यम से प्राप्त प्रविष्टि मान्य नहीं होगी। केवल इस लेख के कमेंट या टिप्पणी के माध्यम से ही रचना प्रेषित करें।
  • एक प्रेषक से एक ही प्रविष्टि स्वीकार्य होगी।
  • संपादक मंडल का निर्णय साधारण अथवा विवाद की स्थिति में अंतिम व सर्वमान्य होगा।
  • किसी भी प्रविष्टि की प्राप्ति न होने या न जीतने पर पुस्तक आगामी अंकों में वितरित होगी।
  • संपादक मंडल के सदस्य प्रतियोगिता में भाग नहीं ले सकते।
  • एक बार पुरस्कृत विजेता को अगले 6 माह तक दुबारा पुरस्कृत नहीं किया जा सकेगा। हालांकि पूर्व विजेताओं के भाग लेने पर कोई प्रतिबंध नहीं है।
  • क्षमा करें, डाक में पुस्तक खो जाने या पुस्तक अप्राप्ति कि जिम्मेवारी निरंतर नहीं ले सकता।
  • रचना भेजने की अंतिम तिथि हैः 15 अगस्त, 2008

3 प्रतिक्रियाएं

  1. कहती थी माँ,
    अपने पैरों पे खड़ा होगा,
    तू एक दिन !!

  2. globalization ke yug me,
    pair hindustan me to,
    chehra amrika me hota hai..
    kya karen..duniya nirantar chhota hota hai !

  3. दुनिया की नजरों में तनकर खड़ा है
    मगर असलियत में बोझा बड़ा है
    इसीलिए तो कमर तक गड़ा है ..