ऐ इंसानों, ओस न चाटो!


15 अगस्त को स्वाधीनता दिवस है और यह हमारे देश की स्वतंत्रता का हीरक जयंती वर्ष है। इसी अवसर पर पढ़िये मुक्तिबोध की कविता "ऐ इंसानों, ओस न चाटो!" और सोनी रत्ना की कविता "सीखो बेखौफ़ साँसों का कर्ज़ चुकाना"। »


बनाईये करियर, संगठन व जीवन विशिष्ट


"द बिग मू" उपदेशों से भरी किताबों से काफी अलग है जो जीवन में खतरे उठाने और अपने आलोचकों पर ध्यान न देने की हिम्मत देगी, जो केवल किसी व्यक्ति के लिये नहीं वरन किसी संस्थान के लिये भी लागू होती है। पढ़िये 33 लेखकों के अनुभवों के निचोड़ वाली इस पुस्तक की समीक्षा। »


मस्त रहो न यार


image समस्या पूर्ति निरंतर का ऐसी प्रतियोगिता स्तंभ है जिसमें दिये हये चित्र और शीर्षक एक छोटी सी कविता लिखनी होती है। कविता ज्यादा बड़ी न हो तो अच्छा, चार लाईना हो तो उत्तम, हाइकू हो तो क्या कहनें! तो क्या आप तैयार हैं भाग लेने के लिये? »


निधि के लेखन का है अंदाज़ खास


image कच्चा चिट्ठा में परिचय कीजिये विचारों की अभिव्यक्ति को सर्वोपरि मानने वाली हरफनमौला चिट्ठाकार और चिन्तन की रचयिता निधि से। »


बहुमुखी प्रतिभा वाले हैं झालिया नरेश


image कच्चा चिट्ठा में परिचय कीजिये दोस्तों के बीच झालिया नरेश या आमगाँव के ज़मींदार तथा चिट्ठाकारों के बीच चिरकुंवारे के रुप में जाने जाने वाले और लोकप्रिय चिट्ठे खाली-पीली के रचयिता आशीष श्रीवास्तव से। »


वोट की राजनीति ने बनाये नपुंसक नेता


image बड़े बांध विकास के मापदंड माने जाते हैं। बांधों से बिजली जैसे फायदे प्रगति के सापेक्ष एक और कटुसत्य है डूब क्षेत्र से जन सामान्य का विस्थापन। पत्रकार विजय मनोहर तिवारी ने इन्दिरा सागर बांध परियोजना के डूब क्षेत्र में आये कस्बे 'हरसूद' में विस्थापन का अनुभव टीवी द्वारा लोगों तक पहुँचाया, तत्पश्चात अपने अनुभवों को लेखनीबद्ध किया पुस्तक 'हरसूद 30 जून' में। पढ़िये विजय से अनूप शुक्ला की बातचीत। »


लाल परी – भाग 1


"हर इन्सान के अंदर एक और रूप छिपा होता है, जेकिल और हाईड की तरह। जैसे दिन की शान्त, संकोची अरु रात होते ही लाल परी में बदल जाती है - चंचल, शोख, बीस-साला बिंदास बाला!" वातायन में प्रस्तुत है विश्व की पहली इंटरैक्टिव धारावाहिक कथा "लाल परी", प्रत्यक्षा की कलम से। पहला भाग पढ़ें और तय करें कहानी का अगला भाग कैसा हो। »


हँसे न हँसे हम


जब हँसी नही आती थी तो उपहास का पात्र बनते थे, अब ताबड़तोड़ रावणनुमा ठहाके लगा लेते हैं तो भी भृकुटियाँ उठती हैं। गोया फकत एक पेशी की हरकत से जो तनाव हमें झेलना पड़ा उससे तो खुश रहने के तमाम मेडिकल फायदों का ही बेड़ा गर्क हो गया। पढ़िये विप्लव की हास्य रचना हँसे न हँसे हम। »


खिड़की


image "कहने को कहते हैं कि लो खुलवा दी खिड़की तुम्हारे लिए। मैं जानती हूँ, इस बात में कितनी सच्चाई है। अगर एक बिटिया होती तो शायद यह खिड़की कभी न खुलती। बल्कि खुली हुई खिड़कियाँ भी बन्द हो जातीं।" वातायन में पढ़िये इला प्रसाद की संवेदनशील कथा खिड़की। »


वेबारू : इंटरनेट खोज का नया आयाम


image इंटरनेट पर 20 अरब जालपृष्ठ हैं, यानि लगभग 10 लाख जी.बी. की जानकारी। इसे खंगालने के लिये अगर कोई ऐसा माध्यम मिल जाये जिससे आप आफलाईन रहकर ही अपने मोबाईल या पीसी से खोज कर सकें तो कैसा रहे? पढ़िये रविशंकर श्रीवास्तव का रोचक व जानकारीपूर्ण आलेख। »