Posts Tagged ‘ media ’

सीधी बात कहने का क्या किसी में दम नहीं?


image हमारे समाज में खुले तौर पर यौन विषयों पर बात करना टेढ़ी खीर है। चाहे टीवी हो, रेडियो या फिर प्रिंट माध्यम,  हिचक साफ दिखती है। हालांकि यदाकदा कुछ ऐसे प्रयास हो जाते हैं जिनकी तारीफ करना भी ज़रूरी है। पढ़िये रवि श्रीवास्तव का आलेख। »