जादुई तकनीक का वामनावतारः आईफ़ोन

जून 2007 में अमरीकी बाज़ार में उतारा जाएगा यह बहुप्रतीक्षित फ़ोन

IPhone

गिला शिकवा भी कम नहीं

आईफ़ोन की हर कोई वाह वाह कर रहा हो ऐसा नहीं है। आईये कुछ नकारात्मक बातों का भी जायजा लें।

  • आईफ़ोन पर कई लोकप्रिय व्यावसायिक अनुप्रयोग नहीं चलाए जा सकते – अत: व्यावसायिक प्रतिष्ठानों का इस उपकरण को अपने वेतनभोगियों को पीडीए या स्मार्ट फ़ोन के स्थान पर उपलब्ध करवाने की संभावनाएं कम हो जाती हैं। जो लोग पहले से ऐसे उपकरण प्रयोग में ला रहे हैं – वे दो उपकरण भला क्यों रखने लगे!
  • क्या? मात्र 2 मेगापिक्सेल का कैमरा?
  • बैटरी को निकाला नहीं जा सकता – अर्थात बैक-अप बैटरी ले कर चलने की सुविधा नहीं होगी।
  • 3जी के बजाय EDGE तकनीक का प्रयोग।
  • जीपीएस सुविधा अनुपलब्ध है।
  • कुछ लोगों का पूछना है की ऊंगलियों के निशान से गंदी हुई स्क्रीन पर कुछ देखना क्या जमेगा?
  • कई लोग आई-ट्यून्स नामक अनुप्रयोग को ही पसंद नहीं करते जिसकी मदद से आईफ़ोन कई सूचनाओं का आयात-निर्यात करेगा।
  • 499 डॉलर का मूल्य कई प्रयोगकर्ताओं को अधिक लग रहा है – खास तौर पर यदि सिंग्यूलर की बेतार सेवाओं के लिये एक या दो वर्षों का करार करना पड़े।
  • आई-पॉड पर उपलब्ध गेम्स आईफ़ोन में अनुपलब्ध है।
  • बाहरी अनुप्रयोग चलाने की सुविधा नहीं है।
  • सिंग्युलर के अलावा किसी और कंपनी के सिम कार्ड प्रयोग करने की सुविधा नहीं है।
  • किसी भी प्रकार से स्टोरेज कैपेसिटी बढ़ाने की सुविधा नहीं है।

नवरी 2007 में आईफ़ोन का प्रदर्शन करते हुए एप्पल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्टीव जॉब्स नें इसका परिचय “एक क्रांतिकारी और जादुई उत्पाद” कह कर दिया। स्टीव आईफ़ोन की विशेषताओं से परिचित करवाते जाते और उपस्थित जनसमूह हर्ष और करतल ध्वनियों से अपना अनुमोदन और उत्साह दर्शाते जाते। ढाई साल की तैयारी से बने इस उत्पाद में लगी तकनीकों को अधिकृत रखने के लिए एप्पल ने 200 अलग अलग पेटेंट की अर्जी दी है।

आईफ़ोन कितना ही नन्हा क्यों न हो कोई खिलौना नहीं है, यह एक शक्तिशाली उपकरण है!

आईफ़ोन एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो कैमरा फ़ोन, पीडीए (पर्सनल डिजिटल असिस्टैंट), मल्टीमीडिया प्लेयर और बेतार संचार प्रणाली से लैस है। आईफ़ोन के माध्यम से चलित दूरभाषण, ई-मेल, लिखित संदेश आदि सूचना सेवाएं बेतार उपलब्ध होंगी।

एप्पल के उत्पाद अपनी सुंदरता, परिष्कृत डिज़ाईन और आसान अंतराफ़लकों के लिए जाने जाते हैं। एप्पल ने अपने मैक कंप्यूटरों में प्रयुक्त शक्तिशाली X 10 आपरेटिंग सिस्टम और सफ़ारी ब्राऊज़र से इस मात्र 4.5 X 2.4 X 0.46 इंच के हस्तधारित आईफ़ोन को सुसज्जित कर के सिद्ध कर दिया है की वे इसके अनुप्रयोगों के प्रति कितने गंभीर हैं।

आईफ़ोन कितना ही नन्हा क्यों न हो कोई खिलौना नहीं है, यह एक शक्तिशाली उपकरण है! आईफ़ोन के प्रति उपभोक्ताओं के उत्साह का अंदाज़ा इस बात से ही लग जाता है की प्रदर्शन के एक हफ़्ते के भीतर कंप्यूटर प्रोग्रामर्स ने वर्तमान में उपलब्ध विंडोज़ आधारित स्मार्ट-फ़ोन उपकरणों के लिये आईफ़ोन के जैसी दिखने वाली आवरण बना कर इन्टरनेट पर उपलब्ध करवा दिए, जिन्हें हटाने के लिए अपने कॉपीराईट के प्रति सजग एप्पल के वकीलों ने उन्हें चेताया।

आईफ़ोन जून में अमरीकी बाज़ार में 499 अमरीकी डॉलर की कीमत में उपलब्ध होगा।

आईफ़ोन की सबसे बडी विशेषता क्या है? इस उपकरण पर मात्र एक बटन है और पूरा उपकरण एक 3.5 इंच के पतले एलसीडी पर्दे सा दिखता है। आईफ़ोन पर उपलब्ध हर सुविधा का प्रयोग ऊंगलियों के माध्यम से इसके टच स्क्रीन को छू कर अलग अलग अनुप्रयोगों को चला कर किया जाता है। जो काम किसी पीसी पर माऊस करता है वही काम यहां तर्जनी करती है!

उपकरण पर तीन संवेदी अवयव लगे हैं जो हाथ की दूरी, उसका इशारा और प्रकाश की तीव्रता को समझने का काम करते हैं। उपकरण इतना समझदार है की प्रयोगकर्ता स्क्रीन पर जिस तेज़ी से उंगली को उपर से नीचे की तरफ़ चलाता है स्क्रीन पर डाटा भी उतना ही तेज़ स्क्रॉल होता है। तर्जनी और अंगूठे को आपस में एक दूसरे से सटा कर स्क्रीन पर रखने के बाद यदि उनके बीच की दूरी बढाई जाए तो स्क्रीन पर खुले चित्र का आकार ज़ूम यानि बढने लगता है या, दूरी कम करने पर चित्र का आकार घटने लगता है।

आईफ़ोन के पिछली तरफ 2 जीबी के कैमरे का लेंस है। निचली और माईक और स्पीकर सहित बैटरी चार्ज करने और कंप्यूटर से सूचना के आयात-निर्यात करने का जैक है। उपर हैडफ़ोन का जैक है। आईफ़ोन ब्लूटूथ तकनीक से सुसज्जित है अत: इसके साथ बेतार हैडफ़ोन का प्रयोग किया जा सकता है। इसके अलावा ये क्वॉड-बैंड जीएसएम, 802.11 बी/जी और वाई-फ़ाई तकनीक से भी लैस है।

आईफ़ोन को खड़ा या आड़ा पकड़ कर काम में लाया जा सकता है – स्क्रीन पर दृश्य अपने आप हमेशा सीधा ही दिखेगा। 160 पिक्सेल प्रति इंच दिखाने वाले स्क्रीन पर 320 X 480 पिक्सेल दृश्य होंगे, 4 जीबी या 8 जीबी के डाटा संग्रहण के विकल्प होंगे अत: समूची फ़ीचर फ़िल्में और हज़ारों गानें इस पर सहेजे और देखे सुने जा सकते हैं।

एप्पल ने सिंग्यूलर, गूगल तथा याहू जैसी कंपनियों से भागीदारी कर गूगल मैप्स, याहू पुश मेल और अन्य कई विश्वस्तरीय जुगतों को भी मुहैया कराया है।

 

openid

आईफ़ोन जून में अमरीकी बाज़ार में उतारा जाएगा – जिसका करपूर्व न्यूनतम खुदरा मूल्य 499 अमरीकी डॉलर होगा। 8 गीगाबाईट वाले आईफ़ोन की कीमत मात्र 499 डॉलर होगी।

टैग: , ,

एक प्रतिक्रिया

  1. अरे! भाई मैं तो इस फोन को लेकर बहुत उत्साहीत था….इसको प्रयोग में लेने का सपना है, और आपने नकारात्मक बाते बता कर….ब हू हू … 🙁