आमुख कथा

भारत में एड्सः शतुरमुर्ग सा रवैया

एड्स से निबटने के लिये योजनाबद्ध तरीके से लोहा ले सकने वाले नेतृत्व की दरकार है

एड्स को हमारे जीवन में आये पच्चीस साल हो गये। भारत अब विश्व की सर्वाधिक एचआईवी संक्रमित जनसंख्या वाला देश बन गया है। इस से निबटने के लिये मजबूत रीढ़ वाले नेतृत्व की दरकार है जो इससे आपदा नियंत्रण की तौर पर नहीं वरन योजनाबद्ध तरीके से लोहा ले। पढ़िये डॉ सुनील दीपक की आमुख कथा।

Aug 5th 2006, 6

ब्लॉग से देश नहीं बदलेगाः अतानु डे

March 29, 2005 | 1 Comment

image संवाद, जिसके तहत हर माह आप रूबरू हो सकेंगे चिट्ठा जगत के ही किसी पहचाने नाम से, में इस बार प्रस्तुत है साक्षात्कार इंडीब्लॉगीज़ 2004 में सर्वश्रेष्ट ब्लॉग के पुरस्कार से नवाज़े गए चिट्ठे "दीशा" के रचयिता अतानु डे से। लेख पढ़ें »
संवाद से अन्य आलेख »

आस्था की तुष्टि से संतोष मिलता है

May 23, 2005 | Leave comment

image रात के बाद सबेरा होता है या सबेरे के पहले रात? आजकल हसीनों में शर्मोहया क्यों नहीं है? पूजा के समय भगवान को प्रसाद व भोग चढ़ाया जाता है, यह जानते हुये भी कि अंतत: खाना इन्सान को ही है। आखिर क्यों? ऐसे ही टेड़े सवालों के मेड़े जवाब दे रहे हैं हाजिर जवाब फुरसतिया! लेख पढ़ें »
पूछिये फुरसतिया से से अन्य आलेख »

विकिलीक्स बतायेगा पर्दे के पीछे का सच

February 9, 2007 | 2 Comments

image नये स्तंभ टेक दीर्घा में रवि रतलामी बता रहे हैं विकिपीडिया की तर्ज पर प्रारंभ, पर उससे काफी अलाहदा, एक नये और अनोखे प्रकल्प विकिलीक्स के बारे में। लेख पढ़ें »
टैक दीर्घा से अन्य आलेख »

ट्रैफ़िक जाम और सपने

August 1, 2005 | Leave comment

image सारांश में इस बार एक महिला लेखिका के प्रथम उपन्यास के अंश प्रकाशित करते हुए हमें हर्ष है। सामयिक प्रकाशन द्वारा प्रकाशित सुषमा जगमोहन के इस प्रयास "ज़िंदगी ई-मेल" का 28 जुलाई, 2005 को दिल्ली में विमोचन हुआ। सुषमा पेशे से पत्रकार हैं और उनकी रचनायें हंस, मधुमती व सखी जैसी पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। लेख पढ़ें »
सारांश से अन्य आलेख »

आखिर ब्लॉग किस चिड़िया का नाम है?

May 23, 2005 | 1 Comment

image जब सेंकड़ों मस्तिष्क साथ काम करें तो जेम्स सुरोविकी के शब्दों में, "भीड़ चतुर हो जाती है"। गोया, इंसान को इंसान से मिलाने का जो काम धर्म को करना था वो टैग कर रहे हैं। निरंतर के संपादकीय में पढ़िये देबाशीष चक्रवर्ती और अतुल अरोरा का नज़रिया। लेख पढ़ें »
नज़रिया से अन्य आलेख »

कृषि आधार का बढ़ता भार

May 15, 2005 | Leave comment

image हर विकसित देश ने कालांतर में ग्राम-केन्द्रित, कृषि-केन्द्रित व्यवस्था से शहर-केन्द्रित, गैर-कृषि केन्द्रित व्यवस्था की ओर अन्तरण किया है। अतानु दे और रुबन अब्राहम मानते हैं कि भारत के पास विकल्प है कि वह 6 लाख छोटे गाँवों की बजाय 600 सुनियोजित, चमचमाते नए शहरों के निर्माण पर विचार करे। जबकि कृषक चिट्ठाकार अशोक पाण्डेय मानते हैं कि ऐसा कदम बाज़ार की ताकत के सामने गाँवों की आत्मनिर्भरता के घुटने टेक देने के समान होगा। लेख पढ़ें »
आमुख कथा से अन्य आलेख »

क्या आप टैगिंग करते हैं?

May 23, 2005 | Leave comment

image टैगिंग जानकारी की जमावट और लोगों को जोड़ने का एक नया क्राँतिकारी माध्यम है जो अराजकता से व्यवस्था की सृष्टि कर मानवीय भावनाओं का प्रतीक भी बन चला है। देबाशीष चक्रवर्ती के आलेख द्वारा प्रवेश कीजिये कीवर्ड के साम्राज्य में और अंदाज़ा लगाईये टैगिंग के भविष्य का। लेख पढ़ें »
निधि से अन्य आलेख »

पहचानी डगर का एक और पथप्रदर्शक

July 1, 2005 | 3 Comments

image अँग्रेज़ी से सीधा-सपाट अनूदित पर उबाऊ नहीं। पढ़ें अरिंदम चौधरी की मूल अंग्रेजी पुस्तक "काउंट योर चिकंस बिफोर दे हैच" के प्रणीता सिंह द्वारा किये हिन्दी अनुवाद "खुदी को कर बुलंद इतना" की रविशंकर श्रीवास्तव द्वारा समीक्षा। लेख पढ़ें »
वातायन से अन्य आलेख »

चिठ्ठाकारी को ज़्यादा गँभीरता से न लें

June 1, 2005 | Leave comment

image ब्लॉग नैशविल गोष्ठी पर एक रपट, अंतर्जाल पर हिन्दी के बढ़ते चरण, न्यूज़गेटर द्वारा फ़ीड-डेमन का अधिग्रहण, आई.बी.एम ने कर्मचारियों को दी चिट्ठाकारी करने की छूट, तीसमारखाँ ब्लॉगर और ऐसी ही और खबरें हलचल में। लेख पढ़ें »
हलचल से अन्य आलेख »

पहले मुर्गी आयी या अन्डा

May 23, 2005 | Leave comment

जितेन्द्र के बचपन के दोस्त सुक्खी बहुत ही सही आइटम हैं। उनकी जिन्दगी में लगातार ऐसी घटनायें होती रहती हैं जो दूसरों के लिये हास‍-परिहास का विषय बन जाती है। हास परिहास में पढ़िए सुने अनसुने लतीफ़े और रजनीश कपूर की नई कार्टून श्रृंखला "ये जो हैं जिंदगी"। साथ ही "शेर सवाशेर" में नोश फ़रमायें गुदगुदाते व्यंजल। लेख पढ़ें »
हास परिहास से अन्य आलेख »


निरंतर के लेखक

All authors